डिजिटल सर्वे के विरोध को लेकर पालिका ने व्यापारियों के साथ आयोजित की बैठक

नैनीताल। नगर पालिका क्षेत्र का स्थलीय और ड्रोन सर्वे कर पालिका संपत्ति का सटीक आंकड़ा जुटाकर डिजिटल बेस तैयार करने के काम मे शहरवासी ही बाधा बन रहे थे ।जिसको लेकर पालिका ने सोमवार को नगर के व्यापारिक संगठनों व अन्य लोगों के साथ एक बैठक आयोजित की। इस दौरान पालिका अधिशासी अधिकारी और पालिका प्रशासक ने सभी लोगों को सर्वे के बारे में स्पष्ट रूप से जानकारी दी।साथ ही सर्वे के लाभ भी बताए। पालिका प्रशासक ने बताया कि शासन की ओर से पूर्व में जारी किये गए शासनादेश के तहत सर्किंल रेट के आधार पर कर में 0.01 प्रतिशत से 01 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी का प्रावधान है। जिसमें नगर पालिका की ओर से 0.01 प्रतिशत बढ़ोतरी का प्रस्ताव पास कराया हुआ है। साथ ही शासन की ओर से यह भी स्पष्ट है कि वर्तमान में दिये जा रहे कर में अधिकतम पांच प्रतिशत तक की ही बढ़ोतरी की जा सकती है। दोनों ही नियम लागू होने के बाद कर में मामूली बढ़ोतरी होगी कहा कि शासन स्तर पर निकाय क्षेत्र में आने वाली सभी संपत्तियों आवासीय, व्यवसायिक, कार्यालयी भवनों समेत बाजारों व ख़ाली भूमि का डिजिटल डेटा तैयार किया जा रहा है। जिसके तहत प्रत्येक संपत्ति को यूनिक आईडी प्रदान की जाएगी। जिसका प्रयोग भविष्य में शहर के विकास कार्यों का प्लान तैयार करने में किया जाएगा। प्रत्येक संपत्ति में क्यूआर कोड जारी किये जाने के बाद भवन स्वामी को कर, बिल समेत अन्य जानकारी प्राप्त करने के लिए कार्यालयों के चक्कर काटने की जरुरत नहीं पड़ेगी। कोई भी व्यक्ति घर बैठे अपने भवन की डिजिटल फाइल प्राप्त कर सकेगा। जिसके बाद बैठक में मौजूद सभी लोगों ने सर्वे को लेकर सहमति जताई और सर्वे में सहयोग करने का आश्वासन दिया। इस दौरान पालिका प्रशासक केएन गोस्वामी, ईओ पूजा चन्द्रा, होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष दिग्विजय सिंह बिष्ट, तल्लीताल व्यापार मंडल अध्यक्ष अमनदीप सिंह, मल्लीताल व्यापार मंडल अध्यक्ष किशन सिंह नेगी, त्रिभुवन सिंह ,रुचिर शाह, वेद शाह आदि लोग मौजूद थे।

Advertisement
Advertisement
Ad
Advertisement
Advertisement