राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने मंगलवार को राजभवन में स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं द्वारा प्रदर्शित उत्पादों का अवलोकन किया।

Advertisement
Ad

नैनीताल l राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने मंगलवार को राजभवन में स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं द्वारा प्रदर्शित उत्पादों का अवलोकन किया। इस प्रदर्शनी में नैनीताल जिले के ब्लॉक भीमताल, हल्द्वानी, बेतालघाट, धारी, ओखलकांडा, कोटाबाग, रामनगर, रामगढ़, की महिलाओं ने अपने-अपने उत्पाद प्रदर्शित किए। इस अवसर पर राज्यपाल ने उत्कृष्ट कार्य करने वाली स्वयं सहायता समूह की महिलाओं उनके सराहनीय कार्यों के लिए बसंती राणा, दीपा देवी, गीता देवी को सम्मानित किया।
महिला समूह द्वारा बनाए गए इन उत्पादों का अवलोकन करते हुए राज्यपाल ने कहा कि उत्तराखण्ड की मातृशक्ति बेहद प्रतिभावान होने के साथ-साथ आत्मनिर्भरता की मिसाल हैं। उन्होंने कहा कि गत वर्ष के बाद उत्पादों में एक परिवर्तन देखने को मिला है जो सराहनीय है। उन्होंने कहा कि महिलाएं अपने उत्पादों को देश एवं विदेशों में बेच रही हैं जिससे एक सकारात्मक परिवर्तन आया है। राज्यपाल ने कहा कि उत्पादों में जो वैल्यू एडिशन किया गया है उससे उत्पादों की कीमतों में बढ़ोत्तरी होगी। उन्होंने विश्वास जताया की स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से प्रदेश की अर्थव्यवस्था में क्रांति आएगी।
राज्यपाल ने कहा की महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा बनाए गए उत्पाद लोकल से ग्लोबल तक जा रहे हैं। कुछ महिलाओं द्वारा अपने उत्पादों को विदेशों में बिक्री और उनकी आमदनी में अच्छी बढ़ोतरी होने पर राज्यपाल ने उनकी सराहना की और कहा कि ऐसे समूह अन्य के लिए प्रेरणास्रोत हैं। उन्होंने सीडीओ को ऐसी महिलाओं की सफलता की कहानी को अन्य महिलाओं के साथ साझा करने के निर्देश दिए। उन्होंने महिलाओं को पैकेजिंग और ब्रांडिग के लिए ट्रेनिंग आयोजित करने के निर्देश भी दिए। राज्यपाल ने महिलाओं द्वारा बनाए गए उत्पादों वुडन कलाकृतियां, ऐंपण, बेकरी उत्पाद, अचार, जैम, हैन्डीक्राफ्ट, एलईडी लाइट्स, मसाले, आदि की सराहना की और उनका उत्साहवर्धन किया।
इस अवसर पर सीडीओ अशोक कुमार पांडे ने जनपद में स्थापित स्वयं सहायता समूहों व ग्राम्य विकास की अन्य योजनाओं की जानकारी राज्यपाल को दी। इस अवसर पर राज्यपाल की धर्मपत्नी श्रीमती गुरमीत कौर, एपीडी चंद्रा फर्त्याल, ग्राम्य विकास विभाग के अधिकारीगण तथा विभिन्न विकासखंडो से आयी स्वयं सहायता समूहों की महिलाएं उपस्थित थी। *…………0…………*

Advertisement
Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement