नैशनल डिजिटल सर्किट फोटोग्राफी प्रतियोगिता 2023 में छायाकार बृजमोहन जोशी को मिले ग्यारह अवार्ड

Advertisement


नैनीताल। आईआईपीसी नई दिल्ली इण्डिया इण्टर नैशनल फोटोग्राफी काउंसिल नई दिल्ली द्वारा देश के विभिन्न राज्यों में आयोजित नैशनल डिजिटल सर्किट फोटोग्राफी प्रतियोगिता 2023 के पुरुस्कारों की घोषणा कर दी गई है। जिसमें (इण्डिया) नैनीताल के प्रसिद्ध छायाकार बृजमोहन जोशी को इस प्रतियोगिता में व्यक्तिगत रूप से मिले ( 11 ) अवार्ड। इस प्रतियोगिता में जोशी के ( 85 ) फोटोग्राफ्स स्वीकृत होकर देश के सात राज्यों ( नई दिल्ली, बंगलौर, इन्दौर, विजयवाड़ा, जोधपुर, बरेली, गुवाहाटी ) में आयोजित फोटो प्रदर्शनीयों में प्रदर्शित किए गए। नैशनल डिजिटल सर्किट 2023 का आयोजन IIPC New Delhi द्वारा किया गया। इस प्रतियोगिता के निर्णायक देश के ( 7 ) सात प्रसिद्ध छायाकार थे। बृजमोहन जोशी ने बताया कि इस प्रतियोगिता कि विवरणिका तथा पुरुस्कार उन्हें आज दिनांक 17-01-2024 को पंजीकृत डाक से प्राप्त हुऐ हैं I IIPC New Delhi के अध्यक्ष व अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त छायाकार असीम शर्मा, महा सचिव हेमन्त चोपड़ा ने सभी सदस्य छायाकारों को बधाई दी है तथा नव वर्ष कि मंगलकामना प्रेषित कि हैं। असीम शर्मा ने बतलाया कि इस प्रतियोगिता में देश के (40 ) छायाकारों कि लगभग 630प्रविष्ठियां उन्हें प्राप्त हुई। इस प्रतियोगिता में कुल छ: विषय थे – ( ब्लेक एंड व्हाइट,कलर, नेचर, ट्रेवल,जर्नलिज्म,फैशन व विज्ञापन )।असीम शर्मा ने बतलाया कि IIPC NEW DELHI देश कि एक मात्र ऐसी संस्था है जो राष्ट्रीय वअंतरराष्ट्रीय फोटो प्रतियोगिताओं/प्रदर्शनियों/कार्यशालाओं का आयोजन करने के साथ साथ अपने समस्तसदस्य छायाकारों की उपलब्धियों का सम्पूर्ण लेखा -जोखा भी रखती हैं तथा उसी के आधार पर उन्हें ग्रेडिंग अवार्ड प्रदान करती है , उन्होंने बतलाया कि IIPC New Delhi देश की एक मात्र ऐसी संस्था है जो फोटोग्राफी सोसायटी आफ अमेरिका से मान्यता प्राप्त संस्था है।
बृजमोहन जोशी ने वर्ष 2004से फोटोग्राफी प्रतियोगिता में भाग लेना शुरू किया। वर्ष 2006 मे उन्हें कांस्य व रजत ,2008 में उन्हें स्वर्ण, 2009 में प्लैटिनम,2011 में डायमंड ग्रेडिंग अवार्ड प्राप्त हुआ।‌
उपरोक्त फोटोग्राफी प्रतियोगिताओं में अब तक बृजमोहन जोशी को व्यक्तिगत रूप से 200 से अधिक अवार्ड प्राप्त हो चुके हैं तथा जोशी IIPC. New Delhi द्वारा चयनित देश के दस (10) सर्वश्रेष्ठ छायाकारो में भी शामिल हैं। बृजमोहन जोशी व्यक्तिगत रूप से भी ‌पिछले20-22 वर्षों से एकलफोटोग्राफी प्रदर्शनियों , लोक चित्रों ,स्लाइड शो व वृत्तचित्रो का निर्माण , लघु फिल्म का निर्माण व प्रदर्शन करते आ रहे हैं।
छायाकार बृजमोहन जोशी एक बहुआयामी व्यक्तित्व है ।
वर्ष 1979 से एक रंगकर्मी के रूप में अखिल भारतीय हिन्दी नाटक प्रतियोगिताओं में अपनी सांस्कृतिक संस्था आयाम मंच नैनीताल के माध्यम से नाटकों का मंचन। वर्ष 1993से देश के विभिन्न राज्यों में (NCZCC )उत्तर मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र प्रयागराज ( SCZCC) दक्षिण मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र नागपुर, तथा संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार द्वारा आयोजित राष्ट्रीय महोत्सवों,लोक महोत्सवों- पर्वतीय -पर्वों में उत्तरांचल कला केंद्र के कलाकार के रुप में तथा उपरोक्त संस्था द्वारा आयोजित पारम्परिक जनजातिय आदिवासी लोक चित्रकला की कार्यशालाओं, प्रदर्शनियों में कुमाऊंनी लोक चित्रकला ऐपण ‌विधाके लोक कलाकार के रुप में सहभागिता । वर्ष 1996 से नैनीताल में परम्परा नामक संस्था के माध्यम से युवाओं को कुमाऊंनी लोक संस्कृति के विविध आयामों कि जानकारी, कुमाऊंनी लोक चित्रकला ऐपण, लोक शिल्प, मांगलिक संस्कार गीतों आदि की कार्यशालाओं, संगोष्ठी, संभाषण प्रतियोगिताओं तथा‌ वर्ष 2004 से एक लिखित दस्तावेज के रूप में अब तक परम्परा नामक ( बारह ) विशेषांको का संकलन, सम्पादन, व प्रकाशन, विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं हेतु आलेखन कार्य, वर्ष 2011 में इन्दिरा गांधी मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) नई दिल्ली के पाठ्यक्रम हेतु लेखन कार्य। वर्ष 2004 से 2024 तक परम्परा द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में उत्तराखंड कि ( 55) विभूतियों को चिन्हित कर सम्मानित कर चुके हैं। दूरदर्शन व आकाशवाणी से जुड़े है,अब तक देश के लगभग (10,000) दस हजार से अधिक युवाओं को कुमाऊंनी लोक चित्रकला ऐपण विधा का प्रशिक्षण दे चुके हैं। तथा वर्तमान में परम्परा संस्था के माध्यम से युवाओं को कुमाऊंनी लोक संस्कृति के विविध आयामों कि जानकारी पारम्परिक लोक संस्था परम्परा नैनीताल के माध्यम से देते आ रहे हैं।

Advertisement