नशे के खिलाफ जागरूक कर रहे हैं घनश्याम ओली चाइल्ड वेलफेयर सोसायटी

Advertisement
Ad

गोपेश्वर l उम्र 15 वर्ष और जज्बा समाज बदलने का और वो भी अकेले। आज जहां समाज के युवा नशे में लिप्त हो कर जीवन बरबाद कर रहे हैं वहीं एक 15 वर्ष का युवा है जो नशे के खिलाफ पूरे प्रदेश में दौड़ कर लोगों को जागरूक कर रहा है। कृष्णा मूल रूप से पिथोरगढ़ के देवलथल का रहने वाला है। पिता का साया बचपन से नही था और मां की मनकी स्थिति खराब और जिंदगी अभाव में गुजर रही थी। उसी दौरान घनश्याम ओली चाइल्ड वेलफेयर सोसायटी ने कृष्णा को गोद लिया और पिछले 9 सालों से कृष्णा वहीं रहते हैं। संस्था उनका लालन पालन , खाना पीना और शिक्षा का काम करती है तो कृष्णा भी पूरी लगन से पढ़ाई करते हैं और साथ ही सामाजिक जागरूकता अभियानों में भी हिस्सा लेते हैं। परेशानियों का सामना कर उन्हें हरा देना और समाज के लिए हमेशा कुछ बेहतर योगदान देना ही कृष्णा का लक्ष्य है।
नशे से होने वाले नुकसान और युवाओं को इसमें लिप्त होता देख कृष्णा इन दिनों एक जागरूकता दौड़ कर रहे हैं। वह सबसे कम आयु में नशे के खिलाफ 600 किलोमीटर दौड़ने वाले पहले युवा हैं। वह हर दिन 30 से 40 किलोमीटर दौड़ कर लोगों को नशे के खिलाफ जागरूक कर रहे हैं। विद्यालय में जाकर शपथ दिला रहे हैं और युवाओं को इस अभियान से जोड़ रहे हैं। आज जीआईसी गोपेश्वर में उन्होंने 300 से अधिक बच्चों को नशे के खिलाफ जागरूक किया। विद्यालय के बच्चों ने और अध्यापकों ने उनकी इस मुहिम को सराहना की और हौसला बढ़ाया।
आम जनता उनसे प्रभावित भी हो रही है और अभियान में उनके साथ होने का आश्वासन दे रही है। यात्रा के दौरान रहने और खाने पीने के लिए वह लोगों से मदद भी मांग रहे हैं। इस यात्रा में टीम के अन्य 3 सदस्य भी उनकी सेहत , खाने पीने और अन्य चीजों का ध्यान दे रहे हैं। उनकी आम जनता से अपील है की इस अभियान से जुड़े और इस अभियान को पूरा करने में उनका सहयोग भी दें।

Advertisement
Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement