पर्यटन विभाग, उत्तराखंड सरकार और टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी स्किल काउंसिल (THSC) द्वारा आयोजित 10-दिवसीय गंतव्य टूर गाइड प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान, छात्रों को धरोहर शिक्षा, व्यावहारिक आतिथ्य कौशल और पर्यावरण जागरूकता गतिविधियों का एक समृद्ध अनुभव प्रदान किया

नैनीताल l पर्यटन विभाग, उत्तराखंड सरकार और टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी स्किल काउंसिल (THSC) द्वारा आयोजित 10-दिवसीय गंतव्य टूर गाइड प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान, छात्रों को धरोहर शिक्षा, व्यावहारिक आतिथ्य कौशल और पर्यावरण जागरूकता गतिविधियों का एक समृद्ध अनुभव प्रदान किया l
नैनीताल में पर्यटन विभाग, उत्तराखंड सरकार और टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी स्किल काउंसिल (THSC) द्वारा आयोजित 10-दिवसीय गंतव्य टूर गाइड प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान का यह एक दिन एक व्यापक और समृद्ध अनुभव था। इसने सफलतापूर्वक व्यावहारिक आतिथ्य प्रशिक्षण, धरोहर शिक्षा और पर्यावरण संरक्षण गतिविधियों को संयोजित किया। दिन के अंत तक, छात्र आवश्यक कौशल और ज्ञान से सुसज्जित थे, जिससे वे नैनीताल की समृद्ध धरोहर और प्राकृतिक सुंदरता को बढ़ावा देने और संरक्षित करने में सक्षम और सूचित टूर गाइड बनने के लिए तैयार हो गए। दोपहर में, छात्रों ने नैनीताल चिड़ियाघर का दौरा किया। इस दौरे का उद्देश्य उन्हें वन्यजीव संरक्षण और स्थानीय जैव विविधता के संरक्षण में चिड़ियाघर की भूमिका के बारे में शिक्षित करना था। विभिन्न प्रजातियों का घर होने के नाते, चिड़ियाघर ने जानवरों की देखभाल और वन्यजीव आवासों की सुरक्षा के महत्व के बारे में जानकारी प्रदान की। छात्रों ने सीखा कि चिड़ियाघर पर्यावरण जागरूकता बढ़ाने और लुप्तप्राय प्रजातियों के संरक्षण में कैसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। दिन की शुरुआत शेवरॉन फेयरहैवन्स होटल के दौरे से हुई, जो अपनी समृद्ध ऐतिहासिक महत्व के लिए जाना जाता है। होटल के मालिक श्री प्रवीण ने छात्रों के लिए एक ज्ञानवर्धक सत्र आयोजित किया। उन्होंने पर्यटन उद्योग में आतिथ्य कौशल की महत्वपूर्ण भूमिका पर जोर दिया और व्यवसाय वृद्धि के लिए स्थानीय उत्पादों के प्रभावी विपणन की रणनीतियों पर चर्चा की। अपनी अंतर्राष्ट्रीय अनुभवों से, श्री प्रवीण ने छात्रों को मूल्यवान जानकारी और व्यावहारिक टिप्स साझा किए, जिन्हें वे अपने भविष्य के करियर में लागू कर सकते हैं। इस ज्ञानवर्धक सत्र के बाद, छात्रों ने जलपान का आनंद लिया, जिससे उन्हें सुबह के शिक्षण और सहपाठियों के साथ नेटवर्किंग पर चर्चा करने का अवसर मिला। शेवरॉन फेयरहैवन्स के सत्र के बाद, छात्रों ने नैनीताल के धरोहर स्थलों का भ्रमण किया। उन्होंने मंडी, नगर पालिका और कई ऐतिहासिक चर्चों का दौरा किया। इस भ्रमण ने छात्रों को नैनीताल की सांस्कृतिक और ऐतिहासिक धरोहर में डूबने का मौका दिया, जिससे वे इसकी धरोहर की गहरी समझ प्राप्त कर सके। इसके अतिरिक्त, छात्रों ने मॉल रोड पर स्वच्छता अभियान रैली में भाग लिया, जिससे उन्होंने स्वच्छता और पर्यावरण संरक्षण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित किया। इस रैली का उद्देश्य स्थानीय लोगों और पर्यटकों के लिए स्वच्छ और स्वस्थ पर्यावरण बनाए रखने के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना था।

Advertisement
Advertisement
Ad
Advertisement
Advertisement