जनपद के अनुसूचित जनजाति बाहुल्य क्षेत्रो मे सिकल सेल की जाँच हेतु शिविर आयोजित किये गये हैँ l

Advertisement
Ad

नैनीताल l सिकल सेल रोग एक आनुवंशिक विकार है जिसमें लाल रक्त कोशिकाएं हंसिया के आकार में परिवर्तित हो जाती हैं। कोशिकाएं जल्दी मर जाती हैं, जिससे स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं (सिकल सेल एनीमिया) की कमी हो जाती है और रक्त प्रवाह अवरुद्ध हो सकता है जिससे दर्द (सिकल सेल संकट) हो सकता है। भारत सरकार के दिशानिर्देशानुसार जनपद के अनुसूचित जनजाति बाहुल्य क्षेत्रो मे सिकल सेल की जाँच हेतु शिविर आयोजित किये गये हैँ l
डॉ स्वेता भंडारी , मुख्य चिकित्सा अधिकारी नैनीताल द्वारा निर्देशित किया गया है कि राज्य से प्राप्त निर्देशों के क्रम मे 19 जून 2024 को जनपद नैनीताल मे सिकल सेल दिवस का आयोजन किया जाना है, जो निरन्तर 3 जुलाई 2024 तक जारी रहेगा जिसमे ।
सिकल सेल दिवस का मुख्य आयोजन रामनगर ब्लाक के जनजाति बाहुल्य क्षेत्र थारी व स्वालदै पर किया जाना है, क्षेत्र के समस्त आशा/ए0एन0एम0/सी0एच0ओ0/ आर0बी0एस0के0 टीम आर0के0एस0के0 कॉउंसलर के माध्यम से जागरूकता लाये जाने के लिये जनजाति बाहुल्य क्षेत्रों मे जन मानस तक सिकल सेल के बारे मे जानकारी उपलब्ध कराई जाये. समाज कल्याण या जनजाति विभाग, बाल एव महिला विकास, शिक्षा विभाग, पंचायत राज का भी सहयोग अवश्य लिया जाय ।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा रामनगर ब्लॉक मैं आयोजित कार्यक्रम मे जनमानस से अपील की है कि अधिक से अधिक मात्रा मे लोग कार्यक्रम पर पहुचे साथ ही जनप्रतिनिधियो से अपील की जनजाति क्षेत्र के लोगो को कार्यक्रम स्थल पर आने के लिये प्ररित करे।
बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा प्रचार प्रसार कर कार्यक्रम को अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाने के निर्देश दिए गये. आयोजन के दौरान उन सभी को कार्ड वितरण किये जायेंगे जिनका पूर्व मे सिकल सेल परिक्षण किया जा चुका हैं.

Advertisement

बैठक मे डॉ स्वेता भंडारी के अतिरिक्त जिला कार्यक्रम प्रबंधक मदन मेहरा, दीवान बिष्ट, देवेंद्र बिष्ट, श्रीमती तुलसी आर्या, निश्चय भूमिया, दिनेश उपाध्य, पंकज तिवारी, पवन कुमार, बच्चन कालाकोटी, हेम जलाल, बसंत गोस्वामी, उपस्थित रहे l

Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement