कुविवि के कुलपति प्रो० दीवान एस रावत ने डी०एस०बी० परिसर के विभिन्न विभागों का किया औचक निरीक्षण, कक्षाओं में जाकर विद्यार्थियों से लिया व्यवस्थाओं व सुविधाओं के सन्दर्भ में फीडबैक

Advertisement

नैनीताल l गुरुवार को परिसरों में छात्रों की उपस्थिति एवं शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार हेतु कुमाऊँ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो० दीवान एस रावत ने डी०एस०बी० परिसर के विभिन्न विभागों का औचक निरीक्षण किया। औचक निरीक्षण के दौरान कुलपति द्वारा कक्षाओं में जाकर विद्यार्थियों से संवाद किया साथ ही विभागों की व्यवस्थाओं व सुविधाओं के सन्दर्भ में फीडबैक भी लिया गया।

कुलपति द्वारा वाणिज्य, भौतिकी, रसायन, गणित एवं लॉ विभाग में जाकर सबसे पहले शिक्षक उपस्थिति पंजिका एवं टाइम-टेबल का अवलोकन किया तत्पश्चात चल रही कक्षाओं में जाकर विद्यार्थियों से संवाद करते हुए क्लास में शत प्रतिशत उपस्थिति एवं अध्ययन के प्रत्येक पहलू को समझने के लिए उनको प्रोत्साहित किया गया। कुलपति ने कहा कि छात्र अपनी समस्या उनके मोबाइल नंबर पर मैसेज भेजकर बता सकते हैं। यही नहीं, अगर कक्षा में शिक्षक नहीं आते तो क्लास की फोटो भेजें। शिकायत पर तत्काल कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि अगर विद्यार्थी की समस्या का समाधान नहीं हो रहा है तो वह सीधे ईमेल अथवा व्हाट्सएप मैसेज भेजकर शिकायत कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  मां नयना देवी व्यापार मंडल ने पर्यटन सीजन को लेकर पत्रकारों से की वार्ता

इस दौरान कुलपति द्वारा कक्षा में देर से पहुँचने वाले शिक्षकों को भी चेतावनी देते हुए अपनी कार्यसंस्कृति में सुधार करने को कहा। कुलपति ने निरीक्षण के दौरान सभी प्राध्यापकों को स्पष्ट निर्देश दिया कि कक्षा में छात्रों की शत-प्रतिशत उपस्थिति सुनिश्चित करने हेतु सभी आवश्यक प्रयास करें। इस अवसर पर उन्होंने छात्र उपस्थिति पंजिका का निरिक्षण किया तथा अनुपस्थित चल रहे छात्रों को ईमेल अथवा व्हाट्सएप के माध्यम से सूचित करने को भी कहा।

यह भी पढ़ें 👉  लेक सिटी वेलफेयर क्लब द्वारा 5 मई को सीआरएसटी इंटर कॉलेज में निशुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया जाएगा

निरिक्षण के दौरान कुलपति प्रो० रावत द्वारा रसायन विभाग में चल रहे प्री-पीएचडी प्रेजेंटेशन का भी अवलोकन किया गया साथ ही शोध को उपयोगी, गुणवत्तापूर्ण तथा विश्व स्तरीय बनाने के लिए सुझाव एवं आवश्यक निर्देश दिए गए।

कुलपति के औचक निरीक्षण के दौरान प्रो० एच०सी०एस० बिष्ट, प्रो० आर०सी० जोशी, डॉ० लज्जा भट्ट, डॉ० विजय कुमार उपस्थित रहे।

Advertisement