नैनीताल में तिब्बतियों ने विरोध प्रदर्शन किया

Advertisement


नैनीताल। नैनीताल में तिब्बत की आजादी को लेकर तिब्बती समुदाय के लोग एकत्रित हुए। इस दौरान तिब्बत संघर्ष संगठन की ओर से चीन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के साथ ही चीन के कब्जे में मौजूद तिब्बत के धर्म गुरुओं की रिहाई को लेकर प्रार्थना सभा की। यहां समुदाय से जुड़े विभिन्न संगठनों ने एक आवाज में विरोध किया।
तिब्बत संघर्ष संगठन के अध्यक्ष छेरिंग तोपगिल ने कहा कि चीन ने तिब्बत पर पूरी तरह कब्जा किया है। उन्होंने कहा कि तिब्बत में बनाए जा रहे डैम के विरोध में उतरे तिब्बतियों को गिरफ्तार किया गया है। जिसका वह विरोध करते हैं। कहा कि तिब्बत से लगातार मठ हटाए जा रहे हैं। यही नहीं कई गांव भी वीरान कर दिए गए हैं। जोकि बेहद गलत है। उन्होंने कहा कि पिछले 17 सालों से तिब्बत में रहने वाले तिब्बतियों के साथ अन्याय लगातार किया जा रहा है। कुछ समय पूर्व बड़ी संख्या में तिब्बतियों को जेल में बंद कर दिया गया। उन्होंने सभी तिब्बतियों की रिहाई की मांग की है। कहा कि तिब्बत से सभी नदियों को चीन के लिए डायवर्ट किया जा रहा है। जिससे भविष्य में पानी की बड़ी किल्लत होने वाली है। उन्होंने तिब्बतियों की रिहाई को लेकर प्रार्थना सभा की। इस दौरान तिब्बत मार्केट के समक्ष पूजा अर्चना भी की गई। धर्म गुरुओं की मौजूदगी में तिब्बतियों ने मंत्र पढ़े। इसके बाद विरोध प्रदर्शन किया गया। इस दौरान पूरी तिब्बती मार्केट बंद रही। प्रदर्शन करने वालों में तिब्बत संघर्ष महिला संगठन की महासचिव छेरिंग पेलकी, यूथ कांग्रेस के उपाध्यक्ष तसी तोपगिल, तेनजिन छिरिंग, डोरमा आदि शामिल रहे।

Advertisement