जीवन में अन्त तक मार्गदर्शन की भूमिका निभाते हैं शिक्षक —डाॅo हरीश बिष्ट ब्लॉक प्रमुख भीमताल।

Advertisement



नैनीताल l पार्वती प्रेमा जगाती सरस्वती विहार नैनीताल शिक्षकों का राष्ट्रीय एवं सांस्कृतिक महोत्सव के अंतिम सत्र में मुख्य अतिथि ब्लॉक प्रमुख भीमताल डॉo हरीश बिष्ट द्वारा अपने संबोधन में कहा एक शिक्षक अपने जीवन के अंत तक मार्गदर्शन की भूमिका अदा करता है और समाज में राह दिखाता है शिक्षक उस सड़क की तरह है जिससे गुजर कर हजारों प्रतिभाएं मंजिल तक पहुंचती है , यहां पर 23 राज्यों से आए 400 शिक्षकों द्वारा विभिन्न ज्ञानवर्धक व सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी गई। शिक्षक एक बेहतर भविष्य का निर्माण की भूमिका अदा करते हैं अपनी धरोहर को बचाना हमारा प्रथम कर्तव्य होना चाहिए। तभी ग्राम जिला प्रदेश देश का एक बेहतर समाज के साथ विकास हो पाएगा। साथ ही कहा छात्रों पर शिक्षकों व अभिवावकों को बच्चों पर अनावश्यक दबाव नहीं डालना चाहिए जिसकी परिणीति कोटा इंजीनियरिंग में एक ही दिन में तीन छात्रों की आत्महत्या जैसे परिणाम हो सकते हैं महोत्सव में जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार, गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र, कर्नाटक, आन्ध्र प्रदेश, तमिलनाडु,केरल, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, मिजोरम,असम, अरुणांचल प्रदेश और उत्तराखंड आदि राज्यों के कला और संस्कृति से जुड़े शिक्षक शामिल हुए है इस मौके पर संस्कृति कला, विज्ञान तथा संस्कार इत्यादि को बदलाव को लेकर सुझाव दिए गए प्रमुख ने डाo बिष्ट द्वारा विभिन्न राज्यों से आए शिक्षकों को स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए । इस अवसर पर प्रधानाचार्य डाo सूर्य प्रकाश , डॉo कन्नू जोशी, रोहिताश, डॉo डी एन भट्ट , अभय कुमार श्री डोभाल , हरीश जोशी ललित कर्नाटक , विनीता खाती, भारती भंडारी, राजेंद्र कोटलिया सहित अन्य मोजूद रहे

Advertisement