कुमाऊं विश्वविध्यालय नैनीताल में आज ऑनलाइन एसएसबी प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।

Advertisement
Ad

नैनीताल। कुमाऊं विश्वविध्यालय नैनीताल में आज ऑनलाइन एसएसबी प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर बोलते हुए कुमाऊँ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर दीवान एस रावत द्वारा कार्यक्रम का उद्घाटन किया। प्रो रावत ने कहा कि आज हमारे विश्वविद्यालय के इतिहास में एक नए अध्याय की शुरुआत हुई है। हम एक अग्रणी पहल शुरू कर रहे हैं जिसका उद्देश्य आपको सशक्त बनाना और सेवा चयन बोर्ड (एसएसबी) की जटिलताओं को समझना है – जो हमारे भारतीय सशस्त्र बलों में शामिल होने का प्रवेश द्वार है।सशस्त्र बलों में करियर केवल एक नौकरी नहीं है बल्कि एक महान आह्वान है, जो सम्मान, साहस और निस्वार्थ सेवा के मूल्यों के साथ गहराई से जुड़ा हुआ है। यह व्यक्तिगत और व्यावसायिक विकास के लिए अद्वितीय अवसर, दूसरों का नेतृत्व करने और प्रेरित करने का मौका और हमारे देश की सेवा करने की गहन संतुष्टि प्रदान करता है। हमारे क्षेत्र, उत्तराखंड में एक गौरवशाली सैन्य परंपरा है, जिसने अनगिनत बहादुर सैनिकों को देश को सौपा है जिन्होंने हमारे देश की विशिष्ट सेवा की है। यह कार्यक्रम उस विरासत का सम्मान करता है और हमारे राज्य के युवाओं की अगली पीढ़ी को प्रोत्साहित करना चाहता है। यह कार्यक्रम प्रारंभिक ऑनलाइन चरण में तत्पश्चात सात दिवसीय गहन इनडोर और आउटडोर प्रशिक्षण व्यवस्था के रूप में होगा, जिसे पूर्ण एसएसबी अनुभव को प्रतिबिंबित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। विश्वविद्यालय परीक्षाओं के बाद ऑफलाइन कार्यक्रम आपको एसएसबी प्रक्रिया की पूरी समझ और पूरा अनुभव प्रदान करेगा, जिससे आपकी सफलता की संभावना अधिकतम हो जाएगी।मुझे उम्मीद है कि यह कार्यक्रम आपको एसएसबी में सफल होने के लिए आवश्यक ज्ञान और कौशल से लैस करेगा और सम्मान और विशिष्टता के साथ राष्ट्र की सेवा करने के आपके लक्ष्य के करीब पहुंचेगा। इस अवसर को समर्पण और प्रतिबद्धता के साथ स्वीकार करें, और इसे सशस्त्र बलों में एक पूर्ण और प्रतिष्ठित कैरियर के लिए पहला कदम उठाये।विज़िटिंग प्रोफेसर निदेशालय के निदेशक प्रो ललित तिवारी द्वारा इस कार्यक्रम में उपस्थित कुलपति तथा विज़िटिंग प्रोफेसर का स्वागत और अभिनंदन किया गया। उन्होंने छात्रों को उस कार्यक्रम के लिए शुभकामनाएँ प्रदान की।इस कार्यक्रम के समन्वयक रीतेश साह ने बताया कि यह ऑनलाइन कार्यक्रम पांच दिवसीय एसएसबी प्रक्रिया को जानने का अवसर प्रदान करेगा। पहला दिन स्क्रीनिंग के लिए समर्पित है, उसके बाद चार दिन मनोवैज्ञानिक परीक्षण, व्यक्तिगत साक्षात्कार और समूह कार्य होते हैे। इन चार दिनों में, आपको प्रक्रिया को जानने का अवसर प्राप्त होगा, जिसे बाद में हमारे पूर्ण पाठ्यक्रम में विस्तारित किया जाएगा। उन्होने बताया कि मार्गदर्शन करने के लिए अनुभवी रक्षा अधिकारी भी जुड़े हुए हैं। ग्रुप कैप्टन संदीप मोहन पहले दो दिनों में एसएसबी प्रक्रिया, व्यक्तित्व पहलुओं और साक्षात्कार तकनीकों पर ध्यान केंद्रित करेंगे। कर्नल डी.के. रावल अगले दो दिनों प्रशिक्षित करेंगे और मनोवैज्ञानिक और जीटीओ पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करेंगे।अवसर कर्नल डी.के. रावल, ग्रुप कैप्टन संदीप मोहन विद्यार्थियों को इस कार्यक्रम से जुड़ने के लिए शुभकामनाएँ प्रदान की आज के कार्यक्रम में ग्रुप कैप्टेन संदीप मोहन ने विद्यार्थियों को एसएसबी की प्रक्रिया तथा व्यक्तित्व के विभिन्न आयामों, नैतिक मूल्य, दृष्टिकोण, प्रोब्लम सोल्विंग आदि विषयों में विस्तृत जानकारी दी जिससे आने वाले दिनों में विद्यार्थी अपने को सही प्रकार से तैयार कर सकें।इस कार्यक्रम में डीएसबी परिसर नैनिताल के अलावा अन्य महाविद्यालयों की विद्यार्थी भी सम्मिलित हुए।

Advertisement
Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement