पानी पीने योग्य है या नहीं जांच कर एक सप्ताह में रिपोर्ट भेजे जल संस्थान — डा० हरीश सिंह बिष्टब्लॉक प्रमुख ने दूषित पानी से बीमार पड रहे गावो में भेजी स्वास्थ्य टीम


ब्लॉक प्रमुख डॉ हरीश सिंह बिष्ट ने कड़े शब्दों में जल संस्थान के अधिकारियों से कहा एक सप्ताह के भीतर 2 अलग-अलग स्रोतों में सीवर लाइन का पानी जाना कहीं ना कहीं विभागों की कार्यप्रणाली में संदेह प्रकट करता है विभाग किसी भी हालत में कहीं भी ब्लॉक के किसी गांव वालों को दूषित पानी ना पिलाया जब तक इस बात को पूर्णता ग्रामीण सहमत न हो जाए तब तक अन्य स्रोतों से गांव वालों को पानी दिया जाए गांव में अनेक जगहों पर डायरिया, सर दर्द ,बुखार उल्टी,इत्यादि बीमारी की शिकायतें मिल रही है इसके लिए ब्लॉक प्रमुख ने तुरंत एक टीम स्वास्थ्य विभाग को भेजने हेतु स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया है जो गांव में जाकर उनके स्वास्थ्य परीक्षण करेगी और कारण जांच करें साथी इन स्थानों पर पानी की जांच कर यह भी सुनिश्चित करें कि यह पानी पीने योग्य है या नहीं केमिकल एवं बायोलॉजिकल टेस्ट कराकर रिपोर्ट एक सप्ताह में ब्लॉक में प्रेषित करें।ब्लॉक प्रमुख ने बताया पिछले दिनों नैना गांव के श्रोत में भी गंदगी मिलने का मामला संज्ञान में आया था उत्तराखंड अर्बन सेक्टर डेवलपमेंट एजेंसी के अधिकारियों जिनके द्वारा काम करने के दौरान सिवर लाइन का पानी श्रोत में गया जिसमें जल संस्थान के अधिकारियों को मौके पर बुलाकर श्रोत का निरीक्षण किया एवं आवश्यक दिशा निर्देश दिये गए, साथ ही 400 मीo लोहे के पाइप जल संस्थान द्वारा एवं 600 मीo प्लास्टिक पाइप यू यू एस डी ए के अधिकारियों द्वारा ग्रामीणों को दो दिन के भीतर उपलब्ध करा दिए जाने हेतू निर्देशित किया साथ ही आर्यभट्ट इंस्टीट्यूट के मोड पर जो लाइन अभी डाली जा रही है शिवर लाइन 10 मीटर पहले ही मोड़ दी जाए ताकि भविष्य में लीकेज की संभावना में श्रोत प्रदूषित ना हो। इस दौरान ज्येष्ठ प्रमुख हिमांशु पांडे, प्रधान हरगोविंद रावत, अमित कुमार,मनोज चनियाल, शेखर भट्ट, धर्मेन्द्र रावत, ब्लॉक कमांडर धीरेन जीना कुंदन फौजी राजेंदर कोटलिया, किशन सिंह बिष्ट, धीरेंद्र जीना, गैड़ा एवं ओली परिवार के सदस्य मौजूद रहे

Advertisement
Advertisement
Ad
Advertisement
Advertisement