जल संकटः नैनीताल का आधा पानी पी जा रहे पर्यटक

Advertisement
Ad

नैनीताल। मैदानों में पड़ रही भीषण गर्मी से राहत पाने के लिए रोजाना हजारों पर्यटक नैनीताल पहुंच रहे हैं। ऐसे में सरोवरनगरी में पीने का पानी का संकट गहराने लगा है। स्थिति यह है कि शहर में सप्लाई होने वाले कुल पानी का आधा हिस्सा पर्यटक ही पी जा रहे हैं। नैनीताल जल संस्थान के अधिशासी अभियंता विपिन कुमार चौहान के अनुसार पर्यटकों की संख्या बढ़ने के कारण पानी की मांग दोगुने के करीब पहुंचने रही है। आम दिनों में नैनीताल की 40 हजार की आबादी और होटलों के लिए 7 से 8 एमएलडी पानी की जाती है।
लेकिन इन दिनों 12 एमएलडी पानी की सप्लाई संस्थान रोजाना कर रहा है। लगभग 4 एमएलडी पानी होटलों को सप्लाई किया जा रहा है। सामान्य तौर पर 7 से 8 एमएलडी पानी पर्याप्त होता है। लेकिन बीते एक महीने से 12 एमएलडी पानी सप्लाई किया जा रहा है। इसमें से 4 एमएलडी होटलों को और 8 एमएलडी स्थानीय लोगों को दिया जा रहा है। मांग बढ़ने से शहर के कुछ इलाकों में पानी की कटौती की समस्या आ रही है। नैनीझील का जलस्तर रोज एक इंच घट रहा है। वर्तमान में झील का जलस्तर माइनस 5.50 इंच पर पहुँच गया है।
जो लगभग पॉंच साल के न्यूनतम स्तर पर है।नैनीताल में पानी की सप्लाई नैनीझील से की जाती है। नैनीताल में कुल 8600 पेयजल कनेक्शन हैं जिसमें 990 व्यवसायिक कनेक्शन हैं।
शहर में वर्तमान समय में पानी की समस्या नहीं है।वोल्टेज कम होने के कारण पम्प नहीं चल पा रहे हैं।
अगर किसी प्रकार की पानी की समस्या होती है तो विभाग की ओर से टेंकरो के माध्यम से जल आपूर्ति की जाएगी। विपिन कुमार चौहान अधिशासी अभियन्ता जल संस्थान

Advertisement
Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement