कुलपति प्रो० दीवान एस रावत ने माननीय राज्यपाल एवं कुलाधिपति लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) से शिष्टाचार भेंट कर उन्हें विश्वविद्यालय की शैक्षणिक प्रगति, वित्तीय सुद्दढ़ीकरण एवं भविष्य की कार्य योजनाओं से अवगत करवाया

Advertisement
Ad

नैनीताल । कुलपति कुमाऊं विश्वविद्यालय प्रो० दीवान एस रावत ने नैनीताल राजभवन में माननीय राज्यपाल एवं कुलाधिपति लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) से शिष्टाचार भेंट कर उन्हें शिक्षा, प्रसार एवं अनुसंधान प्रगति से अवगत करवाया। इस अवसर पर कुलपति प्रो० रावत ने माननीय राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) को विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित किये जा रहे प्रशिक्षण कार्यक्रमों, तकनीकी हस्तांतरण, नवीन अनुसंधान, राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय संस्थानों के साथ किये गए समझौता ज्ञापन (एमओयू) के साथ-साथ विश्वविद्यालय की शैक्षणिक प्रगति, वित्तीय सुद्दढ़ीकरण एवं भविष्य की कार्य योजनाओं के बारे में बताया। कुलपति प्रो० रावत ने विश्वविद्यालय की ओर से गोद लिए गये पांच गांव में स्थापित की जा रही है सामुदायिक पुस्तकशाला, सम्बद्ध शिक्षण संस्थानों के साथ अकादमिक सहयोग और साझेदारी को सुदृढ़ करने हेतु आरम्भ की विद्यासेतु योजना, छात्र-छात्राओं को नियमित रूप से पुस्तकालय का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करने हेतु आरम्भ किया ”लाइब्रेरी चैंपियन” पुरस्कार, केयू एलुमनी नेपाल चैप्टर, प्रयोगशाला/कार्यालय इंटर्नशिप कार्यक्रम, सूचनाओं को सर्वसुलभ करने हेतु की गई क्यू०आर० कोडिंग एवं निशुल्क ऑनलाइन एस०एस०बी० ट्रेनिंग के सन्दर्भ में जानकारी प्रदान की। कुलपति प्रो० रावत ने कहा कि कुमाऊं विश्वविद्यालय अपनी शैक्षणिक उत्कृष्टता से प्रदेश में विद्यार्थियों को शैक्षणिक विकास के अवसर प्रदान करने के लिए दृढ़ संकल्प है। वार्ता के दौरान माननीय राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) द्वारा कुलपति प्रो० रावत से ”एक विवि एक शोध” विषय पर किये जा रहे कार्य के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय के शोध एवं अनुसंधान का लाभ लोगों को मिले तभी इसकी सार्थकता होगी। माननीय राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालयों का मुख्य उद्देश्य ज्ञान का सृजन और संचारण करना है, अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए, अपनी क्षमता को मजबूत करने के लिए एवं अनुसंधान के लिए समर्पित आंतरिक संरचनाओं के निर्माण हेतु राज्य के सभी विश्वविद्यालयों में समन्वयन एवं समझौता ज्ञापन (एमओयू) होना आवश्यक है। माननीय राज्यपाल ने कुलपति प्रो० रावत से राज्य के सभी विश्वविद्यालयों से समन्वयन एवं समझौता ज्ञापन (एमओयू) हेतु पहल करने को कहा। इस अवसर पर राज्यपाल एवं कुलाधिपति लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) ने विश्वविद्यालय की आशातीत प्रगति पर प्रसन्नता प्रकट की एवं कुमाऊं विश्वविद्यालय के वानिकी एवम पर्यावरण विभाग को इंडियन काउंसिल फॉर फॉरेस्ट्री रिसर्च एंड एजुकेशन द्वारा प्रदान की गई ए प्लस कैटेगरी हेतु बधाई दी गई।

Advertisement
Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement