संयुक्त कर्मचारी महासंघ कुमाऊँ मंडल विकास निगम के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुरुरानी ने सरकार द्वारा कुमाऊँ मंडल विकास निगम के माध्यम से प्राइवेट कंपनी के साथ आदि कैलाश यात्रा प्रस्तावित हेली के माध्यम से कराने की पहल का स्वागत किया है

Advertisement

नैनीताल l संयुक्त कर्मचारी महासंघ कुमाऊँ मंडल विकास निगम के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुरुरानी ने सरकार द्वारा कुमाऊँ मंडल विकास निगम के माध्यम से प्राइवेट कंपनी के साथ आदि कैलाश यात्रा प्रस्तावित हेली के माध्यम से कराने की पहल का स्वागत किया है। इस संबंध में विगत दिनों कुमाऊं मंडल विकास निगम पर्यटन विभाग व प्राइवेट कंपनी के अधिकारियों का हेली सर्वे भी हुआ है। उन्होंने कहा कि नैनी सैनी से महानगरों के लिए भी हेली सेवा अभिलंब शुरू की जाए। हैली सेवा शुरू होने से जनपद में पर्यटकों यात्रियों की तादाद बढ़ेगी।
उन्होंने कहा कि अगले वर्ष से वाहन मार्ग से यात्रा बृहद स्तर पर चलेगी। हेली सेवा चलने से वाहन यात्रा मार्ग में कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा बल्कि यात्रा व्रहद स्तर पर चलेगी। कुमाऊं मंडल विकास निगम प्रबंधन द्वारा यात्रा को वाहन मार्ग से चलाने के लिए महानगरों मे स्थित जनसंपर्क कार्यालयों को लक्ष्य दिया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि ज्यादातर यात्री वाहन मार्ग से ही जाते हैं। जिन्हें यात्रा मार्ग से जाने में परेशानी होती है और जो सक्षम है वह हेली मार्ग से जाएंगे।
केदारनाथ बद्रीनाथ सहित देश के विभिन्न मंदिरों में भी हेली सेवा चलती है पैदल यात्री भी जाते हैं
उन्होंने कहा कि पिछले दिनों प्रधानमंत्री मोदी जी के आदि कैलाश यात्रा क्षेत्र में आने के बाद अगले वर्ष यात्रियों की तादाद बहुत बढ़ेगी ।यहां पर केदारनाथ यात्रा के बराबर यात्री पहुंचेंगे।
उन्होंने कहा कि कई यात्री पैदल मार्ग से भी जाना चाहते हैं इसलिए सरकार को चाहिए कि वह पौराणिक परिपथ पागू, नारायण आश्रम, सिरखा, गाला, बूंदी को जोड़ते हुए उक्त मार्गों पर स्थित मार्ग का रखरखाव व यात्रा मार्ग में पढ़ने वाले आवास गृह का उच्चीकरण करें ।क्योंकि उक्त मार्ग में यात्रा न चलने के कारण आवास गृहों व मार्ग की स्थिति दयनीय हो गई है। उन्होंने कहा कि नारायण आश्रम के दर्शन करने के बाद ही यात्रा का महत्व है। नारायण आश्रम को भी यात्रा पैकेज में जोड़कर ,कुटी, जौलिंग कोंग, नाभिढाग व कालापानी में भी पड़ाव बनाए जाएं क्योंकि ज्यादातर यात्री गूंजी में ही रहते हैं।
उन्होंने कहा कि कुमाऊँ मंडल विकास निगम के द्वारा ही वर्ष 1981 से कुमाऊं मंडल विकास निगम के कर्मचारियों ने दिन-रात मेहनत करते हुए कैलाश मानसरोवर यात्रा व वर्ष 1990 से आदि कैलाश यात्रा स्थानीय निवासियों के सहयोग से प्रारंभ की गई। जहां वर्ष 2020 से कैलाश मानसरोवर यात्रा बंद है वहीं आदि कैलाश यात्रा खोल दी गई है। कुमाऊं मंडल विकास निगम के द्वारा ही नाबी में स्थानीय निवासियों के साथ होमस्टे की शुरुआत की गई और आज बृहद स्तर पर होमस्टे हैं।
उन्होंने सरकार से यह भी मांग की है कि यात्रा के आधार शिविर धारचूला की तरह , डीडीहाट व पिथौरागढ़ में भी यात्रा परमिट व मेडिकल की सुविधा मुहैया कराई जाए। यात्रा मार्ग में पढ़ने वाले कुमाऊँ मंडल विकास निगम के पिथौरागढ़, डीडीहाट, धारचूला, पागू, सिरखा, गाला, बूंदी , गूंजी कालापानी , नाभिढाग ,कुटी जोलिंगकौग आवास गृहो का उच्चीकरण किया जाए।
उन्होंने कहा कि लिपूपास से कैलाश के दर्शन करने के लिए उस क्षेत्र को विकसित किया जाए। इस संबंध में महासंघ द्वारा माननीय मुख्यमंत्री को पत्र प्रेषित किया गया।

Advertisement