पर्यटक आवास गृह पिथौरागढ़ यात्रियों के आकर्षण का केंद्र बनता जा रहा है। आदि कैलाश यात्रा में जाने वाले यात्रियों के द्वारा आवास गृह में हुए पर्यावरण संरक्षण अनूठे कार्य की समय-समय पर सराहना की है आवास गृह के प्रबंधक दिनेश गुरु रानी जिनके द्वारा विगत कई वर्षों से पर्यावरण संरक्षण की मुहिम एक पौधा धरती मां के नाम के तहत कार्य किया जा रहा है

Advertisement

नैनीताल l पर्यटक आवास गृह पिथौरागढ़ यात्रियों के आकर्षण का केंद्र बनता जा रहा है। आदि कैलाश यात्रा में जाने वाले यात्रियों के द्वारा आवास गृह में हुए पर्यावरण संरक्षण अनूठे कार्य की समय-समय पर सराहना की है आवास गृह के प्रबंधक दिनेश गुरु रानी जिनके द्वारा विगत कई वर्षों से पर्यावरण संरक्षण की मुहिम एक पौधा धरती मां के नाम के तहत कार्य किया जा रहा है । विवाह समारोह हो, जन्मदिन हो, सालगिरह हो, या कोई शुभ कार्य हो पौधे लगाए जाते हैं। वहीं आवास गृह में आने वाले विशिष्ट, अति विशिष्ट, व्यक्तियों ,यात्रियों से भी पौधारोपण कराया जाता है आज पर्यटक आवास गृह की वाटिका इस बात का प्रमाण है कि यहां पर बृहद स्तर पर कार्य हुआ है। उनके द्वारा यात्रियों के माध्यम से मिशन कालापानी के तहत यात्रा मार्ग में स्थित काला पानी मंदिर परिसर में भी पौधारोपण किया जाता रहा है।
उनके कार्यों को देखते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा उन्हें दो बार गोलकीपर अवार्ड व हिमालय मित्र पुरस्कार से सम्मानित भी किया जा चुका है। इसी क्रम में दिनेश गुरु रानी द्वारा आवास गृह में शिव मूर्ति की स्थापना की गई है। शिव मूर्ति बरेली निवासी आर्मी ठेकेदार संजय अग्रवाल द्वारा लगवाई गई। गुरु रानी ने कहा कि जनपद पिथौरागढ़ मानस खंड के रूप में विकसित हो रहा है। इसी क्रम में यहां पर शिव मूर्ति लगाने से जहां आने वाले यात्री भगवान भोलेनाथ की पूजा प्रार्थना करेंगे। यात्रा चलने पर यहां पर कीर्तन करने का अवसर भी यात्रियों को मिलेगा। उन्होंने दिए जा रहे सहयोग के लिए निगम के प्रबंध निदेशक डॉ संदीप तिवारी महाप्रबंधक ए पी वाजपेई सहित निगम कर्मचारियों का भी आभार प्रकट किया है।
गुरु रानी ने कहा कि आदि कैलाश यात्रा काठगोदाम से लेकर आदि कैलाश तक निगम के आवास गृहों में पहली शिव मूर्ति लगाई गई है। जहां पर यात्रियों को भजन कीर्तन करने का अवसर मिलेगा।
इससे पूर्व उनके द्वारा वर्ष 2000 में कैलाश मानसरोवर यात्रियों के सहयोग से कैलाश मानसरोवर यात्रा मार्ग स्थित गाला में भी शिव जी के मंदिर की स्थापना की गई थी।

Advertisement