विभिन्न मांगों को लेकर राजकीय शिक्षक संघ ने धरना प्रदर्शन किया

Advertisement

नैनीताल। विभिन्न मांगों को लेकर गुरुवार राज्य की शिक्षक संघ ने नैनीताल में धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान शिक्षकों ने सरकार एवं महकमे के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रोष व्यक्त किया। उन्होंने सरकार को चेतावनी दी कि यदि उनकी मांगों पर शीघ्र कोई कार्रवाई नहीं हुई तो वह आंदोलन को तेज कर देंगे जिसकी जिम्मेदारी शासन की होगी l
यहां आयोजित धरना स्थल पर वक्ताओं ने कहा कि पदोन्नति समेत 35 सूत्रीय मांगों को लेकर
राजकीय शिक्षक पिछले तीन माह से आंदोलित हैं। बीती 4 अगस्त को शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत से वार्ता में मांगों को लेकर सहमति बनी थी लेकिन इसके बावजूद सरकार एवं शासन की ओर से किसी भी तरह का निर्णय नहीं लिया गया। जिसके खिलाफ शिक्षकों ने आंदोलन शुरू कर दिया है। 27 सितंबर को राजकीय माध्यमिक शिक्षकों ने काली पट्टी बांध कर विरोध जाहिर किया। 8 अक्टूबर को देहरादून में विशाल सरकार जागरण रैली का आयोजन किया गया। 16 अक्टूबर को समस्त 13 जिला मुख्यालयों पर शिक्षकों ने एक दिवसीय धरना दिया। अब चतुर्थ चरण में कुमाऊं एवं गढ़वाल मंडल मुख्यालयों पर गुरुवार को एक दिवसीय धरना आयोजित किया गया। राजकीय शिक्षक संघ के कुमाऊं मंडल अध्यक्ष डॉ. गोकुल मर्तोलिया तथा कुमाऊं मंडल मंत्री रविशंकर गुसांई के नेतृत्व में अपर शिक्षा निदेशक माध्यमिक कार्यालय नैनीताल में बड़ी संख्या में कुमाऊं भर से शिक्षक एकत्रित हुए। इस दौरान उन्होंने नारेबाजी कर रोष व्यक्त किया। कहा कि यदि उनकी मांगों पर अमल नहीं किया गया, तो वह आंदोलन आगे और तेज करेंगे। इस मौके पर मंडल उपाध्यक्ष महेंद्र पटवाल, कृष्णा बिष्ट, संयुक्त मंत्री शिवराज बनकोटी, ममता जोशी पाठक, संगठन मंत्री प्रमोद मेहरा, कमला गुरुरानी, हेमा पंत, मीनाक्षी कीर्ति, जिलाध्यक्ष डॉ. विवेक पाण्डेय आदि मौजूद थे l

Advertisement