राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद की ऑनलाइन बैठक में बिनसर वन क्षेत्र में आग बुझाने के प्रयास में चार कर्मचारी की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया।

Advertisement
Ad

नैनीताल l राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद की ऑनलाइन बैठक में बिनसर वन क्षेत्र में आग बुझाने के प्रयास में चार कर्मचारी की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया। तथा संबंधित कर्मचारियों के परिवार को पुलिस विभाग के समान उचित मुआवजा देने की मांग भी सरकार से की। बैठक की अध्यक्षता परिषद के प्रांतीय अध्यक्ष अरुण पांडेय द्वारा की गई।
उक्त जानकारी देते हुए राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के जिलाध्यक्ष असलम अली ने कहा कि विगत दिनों बिनसर क्षेत्र के जंगलों की वनाग्नि में चार कर्मचारियों कि जिंदा जलकर जान जाने की घटना ने पूरे कर्मचारी जगत एवं क्षेत्र की जनता को झकझोर कर रख दिया है। बैठक की अध्यक्षता करते हुए परिषद की प्रांतीय अध्यक्ष अरुण पांडेय ने कहा कि दुर्घटना में दिवंगत वह परिजनों को पुलिस विभाग की भांति मुआवजा दिया जाए, उन्होंने कहा कि इस संकट की घड़ी में परिषद अपने वन विभाग के घटक संगठन के साथ कंधे से कंधा लगाकर पूर्ण रूप से खड़ी है, उन्होंने इस घटना के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों के द्वारा बरती ती जा रही लापरवाही के प्रति गहरा रोष व्यक्त किया।
बैठक में परिषद के प्रांतीय उपाध्यक्ष गिरजेश कांडपाल ने कहा कि यह दुर्घटना संबंधित विभाग के पूरे सिस्टम की हत्या है। बैठक में परिषद के जिला संरक्षक बहादुर सिंह बिष्ट ने कहा कि राज्य में वनाग्नि से इतनी विभत्स घटनाएं घटित हो जाने के पश्चात भी शासन में बैठे सम्बंधित अधिकारियों के कानों में जूं तक नहीं रेंक रही। बार-बार इन दुर्घटनाओं की पुनरावृत्ति हो रही है ।
बैठक में परिषद के मडलीय महा मंत्री शशि वर्धन ,वरिष्ठ उपाध्यक्ष इसरार बेग,डीसीबी शिक्षणेत्तर कर्मचारी संघ के अध्यक्ष गणेश बिष्ट, राजकीय शिक्षक संघ संयुक्त मंत्री जगदीश बिष्ट, कुमाऊं विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ के अध्यक्ष मोहित सनवाल, दीवान सिंह बाल कृष्ण पाण्डे ,राकेश,परिषद के कोषाध्यक्ष दीपक बिष्ट, सहायक विकास अधिकारी पंचायत के जिला अध्यक्ष विनोद कुमार भट्ट, आनंद सिंह जलाल, सत्यप्रकाश द्विवेदी,विवेक बिष्ट,राजेंद्र प्रसाद सहित कई कर्मचारी प्रतिनिधियों ने प्रतिभाग किया ।

Advertisement
Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement