जननायक की विशेषता” विषय पर गोष्ठी संपन्न जननायक पक्षपात रहित होना चाहिए-प्रो. नरेंद्र आहूजा विवेक (एम वी एन विश्वविद्यालय)

Advertisement
Ad

Advertisement

नैनीताल l केन्द्रीय आर्य युवक परिषद् के तत्वावधान में “जननायक की विशेषता” विषय पर ऑनलाइन गोष्ठी का आयोजन किया गया।य़ह कोरोना काल से 644 वां वेबिनार था। मुख्य वक्ता प्रो. नरेंद्र आहूजा विवेक ने सभी से मतदान करने का आह्वान करते हुए कहा कि यदि मतदान नहीं करते हैं तो बाद में हमें सरकार पर आक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं रहता है। लोकतंत्र में चुनाव एक पर्व की तरह हैं और हम सभी को बड़े उत्साह उमंग के साथ मतदान करना चाहिए।एक वेद मंत्र का उदाहरण देते हुए प्रो. नरेन्द्र आहूजा विवेक ने बताया कि हमारा जननायक ज्ञान के आलोक से प्रकाशित उच्चतम शिखर के समान हो,उसमें आसक्ति नहीं अनासक्ति का भाव हो वह ममत्व से नहीं समत्व से कार्य करें और समत्व से सर्वोदय की तरफ चलने वाला हो।वह सबका साथ सबका विश्वास सबका विकास में विश्वास रखता हो। निराभिमानता से सर्व हितकारी कार्य करने वाला हो। वह समृद्धि को बढ़ाने वाला और उसका रक्षक हो।सभी से मधुर न्यायशील व्यवहार करता हो। अग्नि के समान प्रदीप्त उर्धवगामी अग्रणी तेजस्वी हो।वह कवि के समान कोमल भावुक संवेदनशील चिंतक और मननशील हो।वह सभी से समान रूप से पक्षपात रहित व्यवहार करने वाला हो। हमारा जननायक विश्व समूह में ऊंचे आसन का पात्र हो।वर्तमान समय में केवल नरेंद्र मोदी ही इन गुणों वाले व्यक्तित्व दिखाई देते हैं।
मुख्य अतिथि आर्य नेता ईश आर्य (हिसार) व अध्यक्ष स्वतंत्र कुकरेजा ने भी नेता के सर्वप्रिय गुणों पर प्रकाश डाला।परिषद अध्यक्ष अनिल आर्य ने कुशल संचालन किया व राष्ट्रीय मंत्री प्रवीण आर्य ने धन्यवाद ज्ञापन किया। गायिका प्रवीना ठक्कर,
रविन्द्र गुप्ता, कौशल्या अरोड़ा, कमला हंस, जनक अरोड़ा, ललिता धवन,कुसुम भंडारी राज श्री यादव आदि के मधुर भजन हुए।

यह भी पढ़ें 👉  गुरु अर्जुन देव शहीदी दिवस पर निकाला नगर कीर्तन, अखाड़े के कलाकारों ने दिखाए हैरतअंगेज करतब

Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement