कुमाऊं विश्वविद्यालय के विजिटिंग प्रोफेसर निदेशालय द्वारा एव्याख्यान का आयोजन किया गया

Advertisement

नैनीताल l कुमाऊं विश्वविद्यालय के विजिटिंग प्रोफेसर निदेशालय द्वारा एमएमटीटीसी दे हर्मिटेज के देवदार हाल में फेलो ऑफ नेशनल एकेडमी तथा इंसा के प्रेसिडेंट ,पूर्व सचिव साइंस एवम टेक्नोलॉजी भारत सरकार,आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर तथा विजिटिंग प्रोफेसर कुमाऊं यूनिवर्सिटी प्रोफेसर आशुतोष शर्मा का व्याख्यान साइंस टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन इन द न्यू मिलेनियम विषय पर आयोजित किया गया । प्रो शर्मा ने अपने व्याख्यान में कहा की की अमृत महोत्सव वाटर शेड होना चाहिए आज जो तीस वर्ष के है वो 2047 में 53 वर्ष के होंगे ऐसे में हमें विज्ञान के साथ अगले बीस वर्षो में आगे आना होगा तथा जनसंख्या पर नजर रखनी होगी । उन्होंने कहा की जुगाड ,धंधा ,पंगा से अलग विकसित भारत का सपना पूरा करना होगा । जी 20 की थीम सतत विकास में साइंस को आगे करना होगा ।चुनौतियां जरूर है पर हमारी ताकत हमारी कमजोरिओ को दूर करेंगी। हम नए आविष्कार ,नव विचार तथा एसिसिस्टम पर ध्यान देना होगा ।नए मस्तिष्क के विचारो से रिसर्च एंड डेवलपमेंट को नई पहल मिलेगी ।हम हमेशा नकारात्मक क्यों रहे । कई विषय को जोड़कर भारत के मिशन को सफल करना है ।हम अपना जलवायु ,ठीक रखना होगा ताकि हम इस जटिल संसार में सतत विकास की तरफ चल सके । समय ग्रीन हाइडोजेन का है ।विज्ञान एवम प्रोधोगिकी खोज, निति,तथा इनोवेशन को एक साथ रखने की जरूरत है । खुशी बराबर बनी रहनी चाहिए।विविधता बनाए रखनी होगी ।नैनीताल की प्रशंसा करते हुए प्रो शर्मा ने कहा की यह पैराडाइज है । मात्र भाषा की बहुत महत्ता है ये हमारी पहचान है विचारो मार बहुत ताकत होती है । युवाओं की आत्म विश्वास कुंजी है रिस्क लेने की आदत डालनी होगी और जिम्मदारी लेनी होगी एक सफल व्यक्ति बनना होगा । हेल्थी ,बराबरी , सीखना,,खुश रहना , रचनात्मकता एवम अपने पर नियंत्रण ,संस्कृति लंबे जीवन के साथी है । भारत का भविष्य अच्छा है यह मेहनती रहते है । कुलपति प्रो दीवान सिंह रावत नए स्वागत करते हुए कहा की की विश्वविद्यालय ने कई इनोवेटिव कार्यक्रम चलाए है ताकि युवा जो देश का भविष्य है विज्ञान की सोच से बेहतर कार्य करेंगे। कार्यक्रम का संचालन निदेशक प्रो ललित तिवारी ने करते हुए कार्य क्रम की रूप रेखा तथा प्रो आशुतोष शर्मा का परिचय प्रस्तुत किया । गोविंद बल्लभ पंत राष्ट्रीय पर्यावरण संस्थान के निदेशक नए अपने संबोधन में साइंस को बेहतर विकल्प कहा जो आने वाले समय में सर्वाधिक प्रयोग होगा । प्रो आशुतोष शर्मा को पुष्प गुच्छ , शॉल उड़ाकर , जागेश्वर मंदिर का प्रतीक चिन्ह , आईपन के साथ हर्षित कुमार द्वारा उकरी गई उनकी फोटो भेट की गई ।कुलपति प्रो दीवान रावत को शॉल उड़ाकर तथा आइपन भेट किए गए ।प्रो सुनील नौटियाल को शॉल उड़ाकर , पुष्प गुच्छ भेंट कर तथा आईपन भेट कर सम्मानित किया गया ।दीप प्रज्वलन ,कुलगीत से कार्यक्रम प्रारंभ हुआ । प्रो तिवारी ने सभी का धन्यवाद दिया।कार्यक्रम में प्रो संजय पंत प्रो पदम सिंह बिष्ट ,,प्रो एलएस लोधियाल,प्रो राजीव उपाध्याय ,प्रो सुषमा टम्टा ,डॉक्टर महेंद्र राणा ,प्रो एनजी साहू,प्रो कुमुद उपाध्याय, प्री अनिल बिष्ट , डॉक्टर युगल जोशी ,डॉक्टर तनुजा साह डॉक्टर संतोष ,डॉक्टर हिमानी कार्की ,डॉक्टर उजमा ,डॉक्टर दीपक मेलकानी ,डॉक्टर दीपिका गोस्वामी , डॉक्टर मनोज बिष्ट ,हिमानी ,गीतांजलि ,वसुंधरा ,दिशा ,इंदर रौतेला ,गरिमा ,पूजा , चारू,रश्मि, लक्षिता ,सहित शिक्षक ,शोध छात्र ,विद्यार्थी ,शिक्षा शास्त्र के विद्यार्थी ,अरविंद , जतिन ,कैलाश जोशी ,देवेंद्र ,कीर्ति केके पांडे सहित 105 विद्यार्थी शामिल रहे।

Advertisement