श्री मद भागवत कथा चौथे दिन भी जारी रहा, भक्त जनों की उमड़ी भीड़

Advertisement
Ad

नैनीताल l “कुन्ती ने पूरे विश्वास के साथ पांचो पांडवों को भगवान श्री कृष्ण को समर्पित कर दिया, इसीलिए पांडव आजीवन कौरवों से सुरक्षित रहे. भगवान की कृपा वर्षा की भाँति सब पर समान रूप से बरसती है. मगर आपको वह तभी प्राप्त होती है, जब आप को ईश्वर पर
अखंड विश्वास हो.” यह संदेश सोमवार को व्यास पीठ पर प्रतिष्ठित आचार्य मनोज कृष्ण जोशी ने श्री माँ नयना देवी मन्दिर प्रांगण में उपस्थित श्रद्धालुओं को दिया. मंदिर में चल रही श्री मद भागवत कथा का आज चौथा दिन था. व्यास जी ने कहा कि माँ भगवती इतनी कृपालु हैं कि उन्होंने न सिर्फ महिषासुर जैसे असुर का वध कर उसे मुक्ति दी, अपितु उसे अपने स्वरूप में ही सम्मिलित कर लिया. इसीलिए आप देवी की जिस प्रतिमा की पूजा करते हैं, उसमें महिषासुर भी मौजूद होता है. सभी देवता भी माँ भगवती की पूजा करते हैं, किन्तु वह सिंहवाहिनी दुर्गा किसी की आराधना नहीं करती. इसी से माँ भगवती की श्रेष्ठता सिद्ध है. मारकंडेय पुराण में एक राजा और एक वैश्य की कहानी का उदाहरण देते हुए आचार्य मनोज कृष्ण ने कहा कि यदि माया पर विजय प्राप्त करनी है तो महामाया की पूजा करना शुरू कर दो.
इससे पूर्व पूर्वान्ह में आचार्य मनोज कृष्ण ने अपने सहयोगियों के साथ मुख्य यजमान मनोज चौधरी व देवन चौधरी तथा महेश भट्ट व मुन्नी भट्ट से पूजा करवाई.
भागवत कथा में दिन पर दिन श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ रही है. मंदिर में आने वाले पर्यटक भी भारी संख्या में भक्ति भाव से सम्मिलित हो रहे हैं. कल मंगलवार को प्रातः 11 बजे से महिलाओं द्वारा सुन्दरकांड का सामूहिक पाठ होगा.
प्रति दिन की भाँति श्री मद भागवत कथा की व्यवस्था करने में श्री मां नयना देवी मंदिर अमर उदय ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री राजीव लोचन साह, उपाध्यक्ष श्री घनश्याम लाल साह, महासचिव श्री हेमंत शाह, उप सचिव श्री प्रदीप शाह, कोषाध्यक्ष श्री किशन सिंह नेगी, वरिष्ठ न्यासी श्री महेश लाल साह सहित श्री श्याम सिंह यादव, श्री ब्रजमोहन जोशी, श्री भीम कार्की, श्री राजीव दुबे, श्रीमती सुमन साह, अमिता साह और सभी पुजारी/कर्मचारी जुटे रहे।

Advertisement
Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement