पंकज उधास श्रद्धांजलि गीत” संपन्न, कलाकार सदैव यादों में जीवित रहते हैं -अनिल आर्य

Advertisement

नैनीताल l केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के तत्वावधान में महान गीतकार “पंकज उधास” को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए गीत माला का ऑनलाइन आयोजन किया गया। केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने कहा कि कलाकार कभी मरते नहीं अपितु सदैव यादों में जीवित रहते हैं,पंकज उधास महान कलाकार थे उन्होंने लोगों को आत्मिक शांति और जीवन प्रदान किया। गायिका प्रवीण आर्या “पिंकी” ने “चांदी जैसा रंग है तेरा “, नरेंद्र आर्य सुमन ने “चिट्ठी आई है “, नरेश खन्ना ने “चिट्ठी न कोई संदेश” आदि गीत सुना कर याद किया।
रविन्द्र गुप्ता, दीप्ति सपरा, जनक अरोड़ा, रचना वर्मा, रजनी गर्ग, सुदेश आर्य, के एल मल्होत्रा, प्रतिभा खुराना आदि ने उनके गीत गाकर भाव विभोर कर दिया। प्रांतीय महामंत्री प्रवीण आर्य ने कहा कि पद्मश्री पंकज उधास हिंदुस्तानी संगीत में गजल की वो आवाज रहे,जिन्होंने गजल को जटिल परंपरा से बाहर निकाल कर उसे हर आदमी तक पहुंचाया।पंकज उधास ने न केवल गली-मोहल्लों,चौक- चौराहों,छोटी जगह के लोगों के दिलों को गजल के सुकून से परिचित कराया,बल्कि आम आदमी के दुख-दर्द को पहचानने वाली आवाज भी बने।एक दौर था जब ‘चिट्ठी आई है’ जैसी गजल गाकर पंकज उधास ने बेशुमार लोकप्रियता कमाई और वे उस दौर में रेडियो के माध्यम से हर घर में गूंजने वाली आवाज बन गए।पंकज उधास देश-परदेस में रहने वाले और अपने देश को छोड़कर काम काज करने वाले व्यक्ति के दर्द की आवाज थे।आज पंकज उधास हमारे बीच नहीं रहे,लेकिन उनकी आवाज हमेशा हमारे दिलों पर राज करती रहेगी। परिषद अध्यक्ष अनिल आर्य ने कुशल संचालन किया।प्रवीण आर्य ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

यह भी पढ़ें 👉  पर्यटन सीजन की तैयारी को लेकर जिलाधिकारी ने ली बैठक

Advertisement