राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक शुरू

Advertisement

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक रविवार को प्रातः 9:00 बजे प्रारंभ हुई। बैठक का आयोजन भुज (जि. कच्छ, गुजरात) स्थित श्री कच्छी लेवा पटेल समाज, सरदार पटेल विद्या संकुल में किया गया है। मातृश्री धनबाई प्रेमजी गांगजी भुडिया कॉम्युनिटी हॉल में बैठक का शुभारंभ परमपूजनीय सरसंघचालक डॉ मोहनजी भागवत और माननीय सरकार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबाले जी ने भारत माता के चित्र के समक्ष पुष्पांजलि अर्पित करके किया।
बैठक में देशभर से संघ दृष्टि से 45 प्रांतों व 11 क्षेत्रों के संघचालक, कार्यवाह, प्रचारक, अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य तथा कुछ विविध संगठनों के अखिल भारतीय संगठन मंत्रियों सहित लगभग 382 प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं। बैठक का प्रारंभ करते हुए माननीय सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले जी ने बैठक में आए हुए सभी अपेक्षित प्रतिनिधियों का स्वागत किया।
उसके पश्चात देश और समाज के लिए विशेष योगदान देने वाले महानुभाव, जिनका गत कुछ अंतराल में देहावसान हुआ है, ऐसे सभी महानुभावों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। उस में प्रमुख रूप से रा. स्व. संघ के वरिष्ठ प्रचारक माननीय रंगाहरि जी, श्रीमान मदनदास देवी जयंत सहस्रबुद्धे, हरिभाऊ वझे और समाज जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में जैसे कि प्रसिद्ध पत्रकार वेदप्रताप वैदिक , प्रसिद्ध चिंतक-लेखक तारिक फ़तेह, सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक डॉ. बिंदेश्वर पाठक, भूतपूर्व क्रिकेटर बिशन सिंह बेदी, पूर्व सैनिक सेवा परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री व संस्थापक सदस्य कमांडर बालाकृष्ण जयसवाल, उत्तराखण्ड आन्दोलनकारी एवम् महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती सुशीला बलूनी, पद्म भूषण एन. विठ्ठल -IAS सहित अन्य को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। हाल ही में नेपाल में आये भूकंप में दिवंगतों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। पिछले दिनों भारी बारिश के कारण हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, गुजरात, नागपुर में आयी हुई बाढ़ और उससे प्रभावित समाज के विभिन्न लोगों के लिए स्वयंसेवकों द्वारा की गई सहायता और सेवाकार्य की जानकारी इस बैठक में दी गई। बैठक में संघ शताब्दी की दृष्टी से कार्यविस्तार के लिए बनी योजना की समीक्षा, संघ प्रशिक्षण अभ्यासक्रम विषयों पर चर्चा होगी। इसके अतिरिक्त पूजनीय सरसंघचालक जी के विजयादशमी उद्बोधन में आए विषयों – प्रकृति विरुद्ध जीवनशैली, जलवायु परिवर्तन का विश्व पर प्रभाव, सुरक्षा, स्व आधारित युगानुकूल नीति आदि विषयों पर चर्चा होगी। सामाजिक समरसता, कुटुम्ब प्रबोधन, गौसेवा, ग्राम विकास व अन्य गतिविधियों में चल रहे प्रयासों के बारे में भी जानकारी ली जाएगी। यह बैठक 7 नवंबर को सायं 6 बजे संपन्न होगी।

Advertisement