कुमाऊं मंडल विकास निगम के प्रबंधक दिनेश गुरुरानी ने कहा कि 13 मई को वर्ष 2024 का आदि कैलाश यात्रा का49 सदस्यीय यात्रियों का दल पर्यटक आवास गृह पिथौरागढ़ पहुंचेगा।

Advertisement

पिथौरागढ़ l कुमाऊं मंडल विकास निगम के प्रबंधक दिनेश गुरुरानी ने कहा कि 13 मई को वर्ष 2024 का आदि कैलाश यात्रा का 49 सदस्यीय यात्रियों का दल पर्यटक आवास गृह पिथौरागढ़ पहुंचेगा।
गुरु रानी ने कहा कि पर्यटक आवास गृह के कर्मचारी कुमाऊनी रीति रिवाज के साथ यात्रियों का स्वागत करेंगे। यात्रियों को शहीद स्मारक स्थल में एक दिया शहीदों के नाम के तहत शहीदों को नमन कार्यक्रम से जोड़ेंगे।
विगत वर्ष की भांति इस वर्ष भी यात्रीयो को हिमालय बचाओ अभियान के तहत जोड़ते हुए हिमालय बचाओ शपथ दिलाई जाएगी व शपथ रजिस्टर भरवाया जाएगा। यात्रियों को पर्यटक आवास गृह परिसर में पौधा रोपण से जोड़ा जाएगा। यात्रियों को उच्च हिमालय क्षेत्र में पड़े हुए कूड़े का निस्तारण करने के लिए बैग दिए जाएंगे। जिसमें यात्री कूड़ा सहित पर्यावरण को प्रदूषित करने वाली सामग्री को इकट्ठा कर वापस लाकर धारचूला में उसका निस्तारण करेंगे।
यात्रियों को विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी प्रत्येक यात्री दल को पौधारोपण हेतु पांच पौधे दिए जाएंगे ।यात्रियों द्वारा इन्हें कालापानी मंदिर परिसर , नावीढाग व जॉलिगकोग क्षेत्र में लगाया जाएगा ।
उन्होंने कहा कि उच्च हिमालय क्षेत्र में भोजपत्र सहित अन्य पौधों के लिए प्रभागीय बनाधिकारी बनवर्धनिक बलवंत सिंह शाही के माध्यम से विभागीय दरों पर पौधे गोपेश्वर स्थित वन अनुसंधान केंद्र से मंगाये जा रहे हैं। इन पौधों के देखरेख के लिए भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस के कमांडेंट मिर्थी परमेंद्र सिंह के सहयोग से उनकी टीम के द्वारा लिया जाएगा।
कुमाऊं मंडल विकास निगम के कर्मचारी भी विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी सहयोग करेंगे।
गुरु रानी ने आदि कैलाश यात्रा चलाने वाले सभी एजेंसियों से भी निवेदन किया है कि वह भी उच्च हिमालय क्षेत्र में जाने वाले यात्रियों को पर्यावरण को प्रदूषित न करने हेतु प्रेरित करें। ज्ञातव्य रहे कि दिनेश गुरु रानी द्वारा विगत कई वर्षों से उच्च हिमालय क्षेत्र में जाने वाले यात्रियों को हिमालय बचाओ अभियान के तहत जोड़ा जा रहा है। उनके द्वारा यात्रियों को यह भी शपथ दिलाई जाती है कि वह यात्रा पूरी करने के बाद अपनी कर्मभूमि में भी पौधारोपण करेंगे।
दिनेश गुरु रानी ने कहा कि प्रबंध निदेशक डॉक्टर संदीप तिवारी द्वारा सभी यात्रा मार्ग में स्थित प्रबंधकों को निर्देशित किया गया है कि वह यात्रियों की पूरी सुविधा का ख्याल करें व अपने आवास गृह के परिसरों को साफ सुथरा रखें। साथी यात्रियों को प्रेरित करें कि पर्यावरण को प्रदूषित न करें।
गुरुरानी ने कहा कि कुमाऊं मंडल विकास निगम के द्वारा ही सर्वप्रथम वर्ष 1991से आदि कैलाश यात्रा की शुरुआत की गई थी। निगम कर्मचारियों को इस क्षेत्र में कार्य करने का काफी लंबा अनुभव है।

Advertisement