ऊर्जा संरक्षण, ऊर्जा दक्षता में सुधार और नवीकरणीय ऊर्जा प्रौद्योगिकियों को अपनाने हेतु कुविवि में हुआ हरित पर्यावरण और ऊर्जा ऑडिट

Advertisement

कुमाऊं विश्वविद्यालय शीघ्र ही हर महीने में एक दिन ‘नो व्हीकल डे’ का पालन करेगा – कुलपति प्रो० दीवान एस रावत

नैनीताल l कुमाऊं विश्वविद्यालय द्वारा अपने दोनों परिसरों में ऊर्जा संरक्षण, ऊर्जा दक्षता में सुधार और नवीकरणीय ऊर्जा प्रौद्योगिकियों को अपनाने की रणनीतियों को ध्यान में रखते हुए एक व्यापक हरित पर्यावरण और ऊर्जा ऑडिट करवाया गया। ईएचएस एलायंस सर्विसेज द्वारा किये गए ऑडिट का उद्देश्य विश्वविद्यालय समुदाय के भीतर पर्यावरण के प्रति जागरूक प्रथाओं को बढ़ावा देना है। आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ट (आईक्यूएसी) के निदेशक प्रो० संतोष कुमार एवं ग्रीन एनर्जी ऑडिट की समन्वयक प्रो० गीता तिवारी के नेतृत्व में ईएचएस एलायंस सर्विसेज द्वारा किये गए हरित पर्यावरण और ऊर्जा ऑडिट में ऊर्जा की खपत को कम करने, कार्बन उत्सर्जन को कम करने और ऊर्जा दक्षता में सुधार हेतु क्षेत्रों की पहचान की गई। हरित पर्यावरण और ऊर्जा ऑडिट का एक उद्देश्य विश्वविद्यालय में ऊर्जा खपत की क्षमता को 20% तक कम करना भी है। इसे प्राप्त करने के लिए, ऑडिट टीम द्वारा सोलर एनर्जी का उपयोग करने और वॉशरूम और गलियारों में मोशन सेंसर बल्ब स्थापित करने जैसे उपायों को लागू करने की सिफारिश की गई। इस ऑडिट में जल संरक्षण के महत्व पर भी जोर दिया गया। इसके तहत व्यक्तिगत पानी की खपत की गणना करने के लिए छात्रावासों में पानी के मीटरों की नियमित निगरानी का प्रस्ताव रखा गया, जिसका लक्ष्य प्रति व्यक्ति 135 लीटर से अधिक नहीं होना चाहिए। इस पहल का उद्देश्य छात्रों और कर्मचारियों के बीच जिम्मेदार जल उपयोग के बारे में जागरूकता बढ़ाना और संरक्षण प्रयासों को प्रोत्साहित करना है। इसके अलावा ऑडिट टीम द्वारा उपलब्ध संसाधनों का अनुकूलित सतत उपयोग हेतु सभी स्टाफ सदस्यों को प्रेरित करने में विभिन्न जागरूकता कार्यक्रमों के आयोजन हेतु भी कहा गया। इस अवसर पर मा० कुलपति प्रो० दीवान एस रावत ने कहा कि विश्वविद्यालय पर्यावरणीय प्रबंधन और सतत विकास के प्रति प्रतिबद्ध है। ऑडिट की सिफारिशों को लागू करके, विश्वविद्यालय अन्य शैक्षणिक संस्थानों के लिए हरित, अधिक टिकाऊ भविष्य हेतु मिसाल बनने का प्रयास करेगा। कुलपति प्रो० रावत ने कहा कि हरित पर्यावरण के प्रति जन-जागरूकता बढ़ाने एवं ईंधन बचाने के लिए विश्वविद्यालय शीघ्र ही हर महीने में एक दिन ‘नो व्हीकल डे’ का पालन करेगा।इस अवसर पर डी०एस०बी० परिसर की निदेशक प्रो० नीता बोरा शर्मा, प्रो० नीलू लोधियाल, प्रो० आशीष तिवारी, डॉ० दीपाक्षी जोशी, डॉ० हृदेश कुमार, डॉ० हर्ष चौहान, डॉ० मनीषा सांगुड़ी, डॉ० निर्मित साह उपस्थित रहे।

Advertisement