डॉ. भरत पांडेय देवभूमि शिक्षा उत्कृष्टता पुरस्कार 2023 से होंगे सम्मानित मुख्यमंत्री उत्तराखंड पुष्कर सिंह धामी के द्वारा सम्मानित किया जाएगा

Advertisement
Ad

नैनीताल l सरदार भगत सिंह राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय रुद्रपुर के डॉ भारत पाण्डे को देवभूमि शिक्षा उत्कृष्ट 2023 पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। अमर उजाला और एसीआईसी देवभूमि फाउंडेशन की ओर से 27 नवंबर को उत्तराखंड शिक्षा सत्र 2022-23 में नवाचार और अन्य एकेडमी कार्यों की उत्कृष्टता का मूल्यांकन कर पूरे राज्य भर से 16 शिक्षकों और शोधार्थियों का इस पुरस्कार हेतु नाम चयनित किया गया है। यह पुरस्कार एमआईईटी कुमाऊं लामाचौड में मुख्यमंत्री उत्तराखंड पुष्कर सिंह धामी के द्वारा सम्मानित किया जाएगा।
डॉ. भरत पांडेय उत्तराखंड के रुद्रपुर में एस.बी.एस.जी.पी.जी. कॉलेज में सहायक प्रोफेसर के रूप में कार्यरत हैं। उन्होंने कुमाऊं विश्वविद्यालय, नैनीताल, भारत से जूलॉजी, बॉटनी और रसायनशास्त्र में स्नातक डिग्री प्राप्त की है, उसके बाद रसायनशास्त्र में एम.एससी. और नैचुरल प्रोडक्ट रसायनशास्त्र में डॉक्टरेट किया है। डॉ. पांडेय की अध्ययन और शोध के क्षेत्र में विशेष दक्षता है और उन्होंने मान्यता प्राप्त पत्रिकाओं जैसे SCOPUS/UGC Care में कई शोध पत्र प्रकाशित किए हैं। इसके अलावा, उन्होंने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में पेपर प्रस्तुत किए हैं तथा रिसोर्स पर्सन भी रहे है इन्होंने राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) के अनुरूप B.Sc. छात्रों के लिए पुस्तकें लिखी हैं।
महामारी के समय डॉ. भरत पांडेय ने अपने छात्रों की सहायता करने के लिए सक्रिय उपाय अपनाए। उन्होंने B.Sc. छात्रों के लिए E-नोट्स और E-वीडियोज़ की तैयारी की। इसके साथ ही, उन्होंने उत्तराखंड में पहला रासायनिक विज्ञान का वर्चुअल प्रयोगशाला डिज़ाइन किया। जिस की देश एवम विदेश के वैज्ञानिकों ने तारीफ़ की । यह वर्चुअल प्रयोगशाला वास्तविक जीवन में होने वाले प्रयोगशाला अनुभव को नकल करने का उद्देश्य रखती है, जिससे छात्र वर्चुअल प्रयोगशाला में छात्र वैज्ञानिक प्रयोगों को समझने और अभ्यास करने का मौका प्राप्त करते हैं। छात्र इसमें विभिन्न विज्ञानिक प्रयोगों को स्वतंत्रता से कर सकते हैं और उनके परिणामों का विश्लेषण कर सकते हैं। इससे वे अपने शिक्षा को समृद्ध कर सकते हैं और रसायनशास्त्र के महत्वपूर्ण सिद्धांतों को समझ सकते हैं।
डॉ. भरत पांडेय ने छात्रों को आगे बढ़ाने के लिए भी अन्य साधनों का उपयोग किया है। उन्होंने छात्रों के लिए सेमीनार, वेबिनार, और विशेष व्याख्यानों का आयोजन किया है ताकि छात्रों को नवीनतम रसायनिक विज्ञान के बारे में ज्ञान प्राप्त हो सके। इसके साथ ही, उन्होंने छात्रों के लिए प्रतियोगिताओं का आयोजन किया है जिससे छात्र अपने अध्ययन को मजबूत कर सकते हैं और अपनी प्रदर्शन क्षमता को सुधार सकते हैं। डॉ. भरत पांडेय एक प्रेरक और सहायक शिक्षक हैं जो छात्रों को रसायनशास्त्र में सक्षम बनाने के लिए संपूर्ण समर्पण के साथ काम करते हैं। उनके प्रयासों से छात्रों को शिक्षा में गहराई और समझ मिलती है और वे अपने अध्ययन के माध्यम से समृद्धि कर सकते हैं।डॉ. भरत पांडेय ने छात्रों को रसायनशास्त्र में महत्वपूर्ण प्रयोगों और सिद्धांतों का अध्ययन कराने के लिए विभिन्न औद्योगिक प्रदर्शनशालाओं का उपयोग किया है। इन प्रदर्शनशालाओं में छात्र स्वयं कार्य करके रसायनशास्त्र के विभिन्न पहलुओं को समझते हैं और विश्लेषण करते हैं। यह छात्रों को वास्तविक जीवन में रसायनशास्त्र के अनुप्रयोग का एक महत्वपूर्ण अनुभव प्रदान करता है। इसके साथ ही, डॉ. भरत पांडेय को uLektz वॉल ऑफ फ़ेम वर्ष 2022 देश के शीर्ष 20 विशेषज्ञों में शामिल किया गया।भारत सरकार द्वारा प्रमाणित औद्योगिक विकास, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय के रजिस्टर्ड संगठन “रेसटेकस्किल्स सोसायटी रिसर्च सोसायटी फॉर टेक्निकल स्किल्स” द्वारा विज्ञान शिक्षक डॉ. भारत पांडेय को “सर्वश्रेष्ठ शिक्षाविद” पुरस्कार 2023 के लिए सम्मानित किया गया है।साथ ही डॉ भारत पाण्डे को सत्र 2023 के लिए “अकादमिक उत्कृष्टता पुरस्कार” हिलसा (नालंदा) के एस। यू। कॉलेज एवंम इंटरनेशनल सेंटर फॉर साइंटिफिक रिसर्च एंड डेवलपमेंट (आईसीएसआरडी) बेंगलुरु, द्वारा दिया गया।

Advertisement
Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement