डीएसबी अरिसर में इनोवेशन एवम इनक्यूबेशन सेल द्वारा आयोजित कार्यक्रम में निदेशक विजिटिंग प्रोफेसर निदेशालय प्रो ललित तिवारी ने बौद्धिक संपदा विषय पर व्याखान दिया

Advertisement

नैनीताल l डीएसबी अरिसर में आज इनोवेशन एवम इनक्यूबेशन सेल द्वारा आयोजित कार्यक्रम में निदेशक विजिटिंग प्रोफेसर निदेशालय प्रो ललित तिवारी ने बौद्धिक संपदा विषय पर व्याखान दिया । प्रो तिवारी ने कहा की मनुष्य के मस्तिष्क में 10 बिलियन न्यूरॉन ,तथा 20 प्रतिसत ऑक्सीजन प्रयोग करते है ।25 प्रतिसत ग्लूकोज ,20परसेंट एनर्जी ,तथा 70 हजार विचार प्रतिदिन आते है ।2.5 गीगाबाइट डाटा स्टोर होते है । बौद्धिक संपदा अधिकार में कॉपी राइट ,ट्रेडमार्क,पेटेंट ,इंडस्ट्रियल डिजाइन ,ज्योग्राफिकल इंडिकेशन, लेआउट डिजाइन ,ट्रेड सीक्रेट एवम प्रोटेक्शन ऑफ प्लांट वेरेटी आता है । कॉपी राइट जीवन प्लस 60 वर्ष के लिए , पेटेंट 20 वर्षो के लिए तो बाकी दस वर्षो के लिए होता है जिससे आगे बढ़ाना होता है ।सभी में पंजीकरण कराना होता है । बौद्धिक संपदा अधिकार बुद्धि के सफल प्रयोग हेतु तथा वर्तमान समय में आथिक उन्नति के लिए जरूरी है । प्रो तिवारी ने प्लैगरिस्म सहित आईपी ऑफिस की पूर्ण जानकारी दी तथा कहा की ये टेरिटोरियल राइट है जो हमें अपने अधिकारी की रक्षा कराते है ।प्री तिवारी ने कई रोचक उदाहरण भी प्रस्तुत किए की सफलता का राज बौद्धिक संपदा अधिकार है उन्होंने गेट समझौता , ट्रिप्स , विपो की जानकारी भी दी ।प्रो ललित तिवारी को इस अवसर पर जरबेरा का पौधा भेट किया गया।प्रो आशीष तिवारी निदेशक आईआईसी नए प्रो तिवारी का परिचय कराया तथा डॉक्टर पैनी जोशी उपनिदेशक ने धन्यवाद दिया । इस अवसर डॉक्टर नंदन मेहरा ,डॉक्टर इकरामजीत सिंह मान , डॉक्टर बिजेंद्र ,डॉक्टर नवीन पांडे ,डॉक्टर सारिका वर्मा ,डॉक्टर रिचा गिनवाल डॉक्टर संतोष कुमार ,डॉक्टर दलीप ,डॉक्टर अंचल अनेजा सहित केमिस्ट्री , फिजिकल एजुकेशन के स्टूडेंट सहित लक्षिता ,कृषि सहित 120 विद्यार्थी उपस्थित रहे ।कार्यक्रम का संचालन डॉक्टर निधि वर्मा ने किया ।

Advertisement