शनिवार को स्लीपी होलो स्थित भवन में एन0सी0सी0 कैडेट्स हेतु रोइंग सिम्युलेटर स्थापित किया गया

Advertisement
Ad

नैनीताल l शनिवार को स्लीपी होलो स्थित भवन में एन0सी0सी0 कैडेट्स हेतु रोइंग सिम्युलेटर स्थापित किया गया। कुमाऊँ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 दीवान सिंह रावत द्वारा रोइंग सिम्यूलेटर का उद्घाटन किया गया।
इस अवसर पर कुलपति प्रो0 दीवान सिंह रावत ने कहा कि यह सिम्यूलेशन तकनीक टीम वर्क को बढ़ावा देने और कैडेटों के बीच रोइंग कौशल को बढ़ाने की एनसीसी की प्रतिबद्धता में एक महत्वपूर्ण प्रगति का प्रतीक है। इस सिम्यूलेटर के माध्यम से एनसीसी कैडेट्स एक जीवंत अनुभव प्राप्त करेंगे। यह सिम्युलेटर एनसीसी कैडेट्स को राष्ट्रीय स्तर पर व्हेलर बोट रोइंग प्रतियोगिता के लिए उनकी तैयारी में सहायता करते हुए उन्हें आपसी समन्वयन, कौशल और समय की महत्ता को समझने में मदद करेगा।
प्रो0 रावत ने कहा कि एनसीसी हमारे छात्रों के जीवन को समृद्ध बनाता है। इसके बहुमुखी कार्यक्रम हमारे युवा कैडेटों में अनुशासन पैदा करते हैं, नेतृत्व गुणों को बढावा देते हैं और देशभक्ति की भावना पैदा करते हैं। एनसीसी द्वारा आयोजित गतिविधियाँ केवल अभ्यास नहीं बल्कि परिवर्तनकारी अनुभव हैं। वे टीम वर्क विकसित करते हैं, उन्हें आत्मविश्वास के साथ चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार करते है और कक्षा से परे मूल्यों को स्थापित करते हैं, हमारे छात्रों को जिम्मेदार नागरिक बनने के लिए तैयार करते हैं।
कमांडिंग आॅफीसर 5 यूके नेवल एनसीसी ने कहा रोइंग बोट सिम्युलेटर, रोइंग में कैडेटों के समय, समायोजन और दिशात्मक नियंमों को परिष्कृत करने के लिए, डिज़ाइन किया गया यह एक अभिनव प्रशिक्षण उपकरण है। रक्षा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित और राष्ट्रीय कैडेट कोर के तहत कार्यान्वित, इस सिम्युलेटर का उद्देश्य एनसीसी नौसेना कैडेटों के समन्वित विकास सुनिश्चित करेगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड के कुमाऊँ विश्वविद्यालय में यह पहला रोइंग सिम्यूलेटर स्थापित किया गया।
कुमाऊँ विश्वविद्यालय के एनसीसी अधिकारी ले0 डा0 रीतेश साह ने कहा कि लंबाई में 20 फीट और चैड़ाई में 4 फीट लम्बाई वाला यह सिम्युलेटर नेवल विंग के कैडेटों तथा वोकेशनल कोर्स में एनसीसी चुनने वाले विद्यार्थियों के लिए उपयोग में लाया जायेगा। कैडेट्स को इस सिम्यूलेशन के दौरान समन्वय, तीव्रता, गति, ताकत और प्रगति जैसे उनके प्रदर्शन मेट्रिक्स की डिजिटल निगरानी करेगा और राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में इससे बेहतर परिणाम प्राप्त किये जा सकेेंगे।
इस कार्यक्रम में विश्वविद्यालय की वित्त नियंत्रक अनीता आर्या, उप कुलसचिव दुर्गेश डिमरी, निदेशक डीएसबी परिसर प्रो0 नीता बोरा शर्मा, चीफ प्रोक्टर प्रो0 एच0सी0एस0 बिष्ट, परीक्षा नियंत्रक डा0 महेन्द्र राणा, सहायक अभियंता संजय पंत, एल0डी0 उपाध्याय, चीफ इंसªक्टर कोशिश मौर्या, इंसट्रक्टर रविन्द्र कुमार गिरि, रतन सिंह राणा, जितेन्द्र सिंह बिष्ट, अरविन्द सिंह, नवीन चन्द्र, अमित, सौरभ, सूरज आदि उपस्थित थे।
इस उद्घाटन अवसर पर सीनियर कैडेट कैप्टन किरन दानू, कैडेट कैप्टन भावना भौर्याल लीडिंग कैडेट प्रियांशी बिष्ट, लीडिंग कैडेट लवली राणा, लीडिंग कैडेट अर्चना वर्मा, लीडिंग कैडेट सुमित अधिकारी, लीडिंग कैडेट शुभम कैडेट सुमित महरा,कैडेट साक्षी सिंह, कैडेट करिश्मा आर्या, कैडेट आयेसा मठपाल, कैडेट आरती बिष्ट, कैडेट मयंक सहित अन्य कैडेट्स ने प्रतिभाग किया।
कार्यक्रम का संचालन ले0 डा0 रीतेश साह, द्वारा किया गया।

Advertisement
Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement