नशे के खिलाफ 600 किलोमीटर दौड़ कर पूरे उत्तराखंड को जागरूक करेंगे 15 वर्षीय कृष्णा , सबसे कम उम्र में ऐसा करने वाले पहले युवा बनेंगे

Advertisement
Ad

नैनीताल l आज युवाओं में जहां नशा लत बनकर बढ़ता जा रहा है वहीं एक युवा ऐसा भी है जो नशे को जड़ से खत्म करने का लक्ष्य लेकर पूरे उत्तराखंड में 600 किलोमीटर की जागरूकता दौड़ कर रहा है। 15 वर्षीय कृष्णा 10 वी में दयासागर विद्यालय में पढ़ता है और उसका लक्ष्य पूरे देश में नशे के खिलाफ लोगों को जागरूक कर इस सामाजिक बुराई को जड़ से खत्म करने का है। कृष्णा घनश्याम ओली चाइल्ड वेलफेयर सोसायटी में पिछले 9 सालों से रह कर अपनी शिक्षा और ट्रेनिंग ले रहे हैं और सामाजिक बुराइयों पर वह बेबाक तरीके से अपने विचार लोगों तक पहुंचाते हैं।
आज कृष्णा ने पिथौरागढ़ के सातसीलिंग इंटर कॉलेज से अपनी यात्रा प्रारंभ की, विद्यालय की प्रधानाचार्या ने हरा झंडां दिखा कर यात्रा प्रारंभ की , इसके साथ ही विद्यालय के बच्चों ने भी 1 किलोमीटर तक कृष्णा के साथ दौड़ कर उनका उत्साह बढ़ाया और इस अभियान में साथ होने का भरोसा दिलाया। इसके बाद कृष्णा 25 किलोमीटर दूर अपने गृह छेत्र देवलथल पहुंचे , जहां उनका भव्य स्वागत हुआ । विद्यालय के प्रधानाचार्य और आसपास के समाजसेवकों ने उनका हौसला बढ़ाया। आज कृष्णा थल तक का सफर पूरा करेंगे , इसके बाद कल उनकी यात्रा यहां से आगे बढ़ेगी और बागेश्वर पहुंचेगी। 30,000 से अधिक युवाओं से मिल कृष्णा भारत के सबसे कम उम्र के युवा होंगे जो नशे के लिए 600 किलोमीटर की दौड़ लगाएंगे। देहरादून में वह मुख्यमंत्री और युवा और बाल कल्याण मंत्री से मिलकर नशे के खिलाफ अपने विचार भी रखना चाहते हैं। इसके बाद उनका लक्ष्य पूरे भारत को इस मुहिम से जोडना और नशे को जड़ से उखाड़ फेकना है।

Advertisement
Advertisement
Ad Ad
Advertisement
Advertisement
Advertisement